CBSE Class 12 Political Science 01

CBSE Class 12 राजनीति विज्ञान
Sample Paper 01

निर्धारित समय : 3 घण्टे
अधिकतम अंक : 80

सामान्य निर्देश-

  1. प्रश्न-पत्र क, ख, ग, घ, और ङ अनुभागों में विभाजित है।
  2. सभी प्रश्न अनिवार्य हैं।
  3. प्रश्न संख्या 1-20 तक सभी प्रश्न एक अंक के हैं। इन प्रश्नों के उत्तर दिए गए निर्देशों के अनुसार दीजिए।
  4. प्रश्न संख्या 21-23 तक सभी प्रश्न दो-दो अंकों के हैं। इन प्रश्नों के उत्तर 40 शब्दों से अधिक नहीं होने चाहिए।
  5. प्रश्न संख्या 24-27 तक सभी प्रश्न चार अंकों के हैं। इन प्रश्नों के उत्तर 100 शब्दों से अधिक नहीं होने चाहिए।
  6. प्रश्न संख्या 28-30 तक सभी प्रश्न पाँच अंकों के हैं। इन प्रश्नों के उत्तर 150 शब्दों से अधिक नहीं होने चाहिए।
  7. प्रश्न संख्या 31 मानचित्र पर आधारित है और पाँच अंक का है। इसका उत्तर अपनी उत्तरपुस्तिका में लिखिए।
  8. प्रश्न संख्या 32-34 तक सभी प्रश्न छः अंकों के हैं। इन प्रश्नों के उत्तर 150 शब्दों से अधिक नहीं होने चाहिए।

अनुभाग (क)

एक अंकीय प्रश्न
निम्नलिखित दिए गए बहु-विकल्पीय प्रश्नों में दिए गए विभिन्न विकल्पों में से एक सही विकल्प का चयन करिए-

  1. भारत में चुनाव आयोग का गठन हुआ-
    1. जनवरी 1948
    2. जनवरी 1949
    3. जनवरी 1950
    4. जनवरी 1951
  2. हरित क्रांति का प्रमुख उद्देश्य था-
    1. खाद्यान उत्पादन को बढ़ाना
    2. रोजगार में वृद्धि करना
    3. किसानों की दशा को सुधारना
    4. उपर्युक्त सभी
  3. निम्नलिखित में से कौन से देश पूंजीवादी गुट से संबन्धित हैं-
    (क) फ्रांस (ख) हंगरी (ग) पश्चिमी जर्मनी (घ) पूर्वी जर्मनी

    1. क, घ
    2. ग, घ
    3. क, ग
    4. क, ख

खाली स्थान भरो-

  1. ________ को सीमांत गांधी के नाम से भी जाना जाता है। उन्होने भारत के दो राष्ट्रों में विभाजन का ________ किया।
  2. भारत ने ________ में प्रथम परमाणु परीक्षण किया था।
  3. नेहरू जी की मृत्यु ________ में हुई।

निम्नलिखित को सही करके पुनः लिखिए-

  1. नर्मदा बचाओ आंदोलन एक जातिगत आंदोलन है।
  2. समान नागरिक संहिता का संबंध अनुच्छेद-46 से है।
  3. पंजाब समझोता इन्दिरा गांधी और लोंगोवाल के बीच हुआ।

निम्नलिखित के समक्ष सही अथवा गलत का निशान लगाइए-

  1. सम्पूर्ण क्रांति का आह्वाहन जे. पी. ने किया।
  2. 1967 के विधान सभा चुनावों में काँग्रेस पार्टी की आठ राज्यों में हार हुई।
  3. यूरोपीय संघ के 11 सितारे संघ की एकता का प्रतीक है।

निम्नलिखित प्रश्न में दो वक्तव्य हैं। एक को कथन A और दूसरे को कारण B कहा गया है। आपको दोनों वक्तव्यों का परीक्षण करने है व निम्नलिखित कूट के आधार पर निर्णय कर अपना उत्तर अंकित करना है।
कूटः
(क) A और R दोनों सही हैं और R, A का सही स्पष्टीकरण है।
(ख) A और R दोनों सही हैं परंतु R, A का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(ग) A सही हैं परंतु R गलत है।
(घ) A गलत हैं और R सही है।

  1. कथन A : संयुक्त राष्ट्र की स्थापना 24 अक्तूबर 1945 को हुई थी।
    कारण R : इसका प्रमुख उद्देश्य युद्ध को रोकना और शांति को बनाए रखना था।
  2. कथन A : सुरक्षा का अर्थ है खतरे से आजादी।
    कारण R : सुरक्षा की दो अवधारणाएँ है- परंपारिक और गैर पारंपरिक।
  3. कथन A : भारत में वामपंथियों ने वैश्वीकरण का समर्थन किया है।
    कारण R : वैश्वीकरण से रोजगार के अवसरों में वृद्धि हुई है।

निम्नलिखित को कालक्रमानुसार व्यवस्थित करें

    1. जर्मनी का एकीकरण
    2. सोवियत संघ का विघटन
    3. गोर्बाचेव द्वारा सोवियत संघ में सुधार की नीतियों को लागू करना
    4. CIS के राष्ट्रों का उदय
    1. प्रथम खाड़ी युद्ध
    2. द्वितीय खाड़ी युद्ध
    3. ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच
    4. ऑपरेशन एनडूयरिंग फ्रीडम
    1. आसियान क्षेत्रीय मंच की स्थापना
    2. यूरोपीय संघ की स्थापना
    3. आसियान की स्थापना
    4. चीन के द्वारा खुले द्वार की नीति अपनाना

निम्नलिखित प्रश्नों का उत्तर 20 शब्दों में दीजिए-

  1. एन. पी. टी. पर भारत की क्या राय थी?
  2. भारत और भूटान के बीच कोई दो सहयोग के मुद्दे लिखिए।

अनुभाग (ख)

दो अंकीय प्रश्न

  1. आप इस कथन से सहमत हैं की सांस्कृतिक वैश्वीकरण न केवल निर्धन देशों के लिए अपितु संपूर्ण विश्व के लिए खतरनाक है? अपने उत्तर के पक्ष या विपक्ष में कोई दो तर्क दीजिए।
  2. ऐसे किन्हीं दो कारणों का उल्लेख कीजिए जो वर्तमान में संयुक्त राज्य संघ की प्रासंगकिता का समर्थन करते हों।
  3. 1967 में काँग्रेस की नौ राज्यों में हार के क्या कारण थे?

अनुभाग (ग)

चार अंकीय प्रश्न

  1. हैदराबाद के भारत में विलय के लिए उतरदायी परिस्थितियों को स्पष्ट कीजिए।
  2. वैश्वीकरण से राज्यों के कार्य करने को क्षमता में कमी कैसे आती है? स्पष्ट कीजिए।
  3. भारत व चीन के बीच संघर्ष के कोई दो कारण लिखिए।
  4. दूसरे विश्व युद्ध के बाद चले शीतयुद्ध के प्रति भारत की सोच को स्पष्ट कीजिए।

अनुभाग (घ)

पाँच अंकीय प्रश्न
प्रश्न संख्या 28 से 30 तक अवतरण/ कार्टून पर आधारित हैं। इन का ध्यानपूर्वक अध्ययन कर इन पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

  1. शांतिपूर्ण बातचीत के जरिये लगभग सभी रजवाड़े जिनकी सीमाएं हिंदुस्तान की नई सीमाओं में मिलती थीं, 15 अगस्त 1947 से पहले ही भारतीय संघ में शामिल हो गए। अधिकतर रजवाड़ों के शासकों ने भारतीय संघ में अपने विलय के एक सहमति – पत्र पर हस्ताक्षर कर दिए। इस सहमति – पत्र को ‘इंस्ट्रमेंट ऑफ एक्सेशन’ कहा जाता है। इस पर हस्ताक्षर का अर्थ था कि रजवाड़े भारतीय संघ का अंग बनने के लिए सहमत हैं। जूनागढ़, हैदराबाद, कश्मीर और मणिपुर की रियासतों का विलय बाकियों की तुलना में थोड़ा कठिन साबित हुआ।
    1. ‘इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन’ की राष्ट्र निर्माण में क्या भूमिका है?
    2. जूनागढ़, हैदराबाद, कश्मीर और मणिपुर की रियासतों का भारत में विलय कठिन क्यों साबित हुआ?
    अथवा

    विकास के दो जाने माने मॉडलों में से भारत ने किसी को नहीं अपनाया……. दोनों ही मॉडलों की कुछ बातों को ले लिया गया और अपने देश में इन्हें 249 मिले-जुले रूप में लागू किया गया। इसी कारण भारतीय अर्थव्यवस्था को ‘मिश्रित अर्थव्यवस्था’ कहा जाता है। (1+2+2=5)

    1. विकास के दो मॉडलों के नाम लिखिए।
    2. भारत ने दोनों में से किसी एक मॉडल को स्वीकार क्यों नही किया? प्रत्येक के लिए कम से कम एक मुख्य कारण दीजिए।
    3. भारत की मिश्रित अर्थव्यवस्था की ऐसी दो विशेषताओं को उजागर कीजिए जो उपरोक्त मॉडलों पर आधारित हैं।
  2. आंदोलन का मतलब सिर्फ धरना-प्रदर्शन या सामूहिक कारवाई नहीं होता, इसके अंतर्गत किसी समस्या से पीड़ित लोगों का धीरे-धीरे एकजुट होना और समान अपेक्षाओं के साथ एकसी मांग उठाना जरूरी है। इसके अतिरिक्त, आंदोलन का एक काम लोगों को अपने अधिकारों को लेकर जागरूक बनाना भी है ताकि लोग यह समझें कि लोकतंत्र की संस्थाओं से वे क्या-क्या उम्मीद कर सकते हैं? (1+2+2=5)
    1. आंदोलन से आप क्या समझते हैं?
    2. आंदोलनों का ‘लोकतांत्रिक राजनीति’ में क्या महत्व है?
    3. भारत के संदर्भ में कोई दो उदाहरण दीजिए जो स्पष्ट करते हों कि आंदोलनों ने किस प्रकार जनता को जागरूक किया है।
    अथवा

    भारत ने विविधता के सवाल पर लोकतांत्रिक दृष्टिकोण अपनाया। लोकतंत्र में क्षेत्रीय आकांक्षाओं की राजनीतिक अभिव्यक्ति की अनुमति है और लोकतंत्र क्षेत्रीयता को राष्ट्र – विरोधी नहीं मानता। इसके अतिरिक्त लोकतांत्रिक राजनीति में इस बात के पूरे अवसर होते हैं कि विभिन्न साल और समूह क्षेत्रीय पहचान, आकांक्षा अथवा किसी खास क्षेत्रीय समस्या को आधार बनाकर लोगों की भावनाओं की नुमाइंदगी करें। (2+3=5)

    1. क्या क्षेत्रीय आकांक्षाओं के संदर्भ में लोकतांत्रिक दृष्टिकोण भारत को उन्नति के मार्ग पर अग्रसर कर सका है? स्पष्ट कीजिए।
    2. क्षेत्रीय आकांक्षाएं लोकतंत्र की पूरक हैं या विरोधी। तर्कसहित उत्तर दीजिए।
  3. आसियान तेजी से बढ़ता हुआ एक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय संगठन है। इसके विजन दस्तावेज 2020 में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में आसियान की एक बहिर्मुखी भूमिका को प्रमुखता दी गयी है। आसियान द्वारा अभी टकराव की जगह बातचीत को बढ़ावा देने की नीति से ही यह बात निकली है। इसी तरकीब से आसियान ने कंबोडिया के टकराव को समाप्त किया, पूर्वी तिमोर के संकट को संभाला है और पूर्वी एशियाई सहयोग पर बातचीत के लिए 1999 से नियमित रूप से वार्षिक बैठक आयोजित की है। (2+2+1=5)
    1. विजन 2020 में व्यक्त की गई आसियान की बहिर्मुखी भूमिका को लिखिए।
    2. ‘पूरब की ओर चलो नीति’ का भारत पर क्या प्रभाव पड़ा है?
    3. आसियान शैली को अपना कर भारत किस प्रकार पड़ोसी देशों के साथ अपने संबंधों को सुधार सकता है। उदाहरण सहित लिखिए।
    अथवा


    उपर्युक्त चित्र के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

    1. उपर्युक्त चित्र में किस घटना को दर्शाया गया है।
    2. इस घटना की प्रतिक्रिया स्वरूप कौन-सा अभियान चलाया गया और उसका क्या परिणाम हुआ?
    3. इस घटना के बाद विश्व की महाशक्ति की क्या प्रतिक्रिया रही?

    निम्नलिखित प्रश्न दृष्टिबाधित परीक्षार्थियों के लिए कार्टून वाले प्रश्न के स्थान पर है।
    नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए- (1+2+2=5)

    1. आपके विचार में चीन का एक आर्थिक शक्ति के रूप में का क्या स्थान है?
    2. संयुक्त राज्य अमरीका को महाशक्ति बनाने वाली किन्हीं दो स्थितियों का आकलन कीजिए।
    3. “चीन विश्व की अगली महाशक्ति हो सकता है।” कोई दो तर्क देकर इस कथन को न्यायोचित ठहराइये।
  4. नीचे दिए गए भारत के रेखा-मानचित्र में पांच राज्य A, B, C, D तथा E द्वारा चिन्हित किये गये हैं। नीचे दी गयी जानकारी के आधार पर उन्हें पहचानिये और उनके सही नाम, प्रयोग की गई जानकारी की क्रम संख्या तथा संबंधित अक्षर सहित, निम्नलिखित तालिका के रूप में अपनी नोटबुक में लिखिए-

    प्रयोग की गई जानकारी की क्रम संख्या संबंधित अक्षर राज्य का नाम
    i.
    ii.
    iii.
    iv.
    v.
    1. वह राज्य जहाँ 2002 के गोधरा नामक स्थान पर हिंसक घटना हुई।
    2. वह राज्य जिसे पहले मद्रास कहा जाता था।
    3. वह राज्य जिसकी विधान सभा में भारत में सर्वाधिक सीटें हैं।
    4. वह राज्य जिससे लालडेंगा का संबंध है।
    5. वह राज्य जिसका विलय 1975 में, भारत के 22 वें राज्य के रूप में हआ है।
    अथवा

    भारत के दिए गए मानचित्र में A, B, C, D और E राज्य दर्शाए गए हैं। नीचे दी गई जानकारी के आधार पर उन्हें पहचानिए तथा उनके नाम, प्रयोग की गई जानकारी की क्रम संख्या तथा सम्बन्धित अक्षर को दी गई तालिका के रूप में अपनी उत्तर-पुस्तिका में लिखिए-

    प्रयोग की गई जानकारी की क्रम संख्या संबंधित अक्षर राज्य का नाम
    i.
    ii.
    iii.
    iv.
    v.
    1. वह राज्य जिसका गठन सर्वप्रथम भाषा के आधार पर किया गया?
    2. भारत का वह राज्य जहाँ सर्वप्रथम 1948 में सार्वभौम वयस्क मताधिकार के आधार पर चुनाव हुए।
    3. वह राज्य जहाँ 1952 में पहली बार कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार बनी।
    4. जोनिंग से प्रभावित राज्य।
    5. वह राज्य जो 1947 में भारत-पाकिस्तान के विभाजन के दौरान प्रभावित हुआ।

    निम्नलिखित प्रश्न दृष्टिबाधित परीक्षार्थियों के लिए प्रश्न संख्या 31 के स्थान पर है।
    निम्न प्रश्नों के उत्तर लिखिए- (2+1+2=5)

    1. राज्य पुनर्गठन आयोग का गठन क्यों किया गया?
    2. 1947 में भारत विभाजन के पीछे कौन-सा सिद्धान्त था।
    3. किन चार देसी रियासतों ने आरम्भ में भारतीय संघ में शामिल होने का विरोध किया था?

अनुभाग (ङ)

छः अंकीय प्रश्न

  1. ऐसे किन्ही तीन प्रमुख कारकों का मूल्यांकन कीजिए जो यूरोपीय संघ को आर्थिक सहयोग वाली संस्था से बदलकर, एक राजनीतिक रूप देने के लिए उतरदायी हैं।
    अथवा

    भारत व पाकिस्तान के बीच संघर्ष के किन्हीं तीन प्रमुख क्षेत्रों का परीक्षण कीजिए।

  2. 1969 में पार्टी के विभाजन के पश्चात कांग्रेस प्रणाली की पुर्नस्थापना के लिए उत्तरदायी परिस्थितियों का विश्लेषण कीजिए।
    अथवा

    भारत में संघ सरकार तथा न्यायपालिका के बीच संघर्ष को जन्म देने वाले घटनाक्रमों का परीक्षण कीजिए।

  3. यह कहना कहाँ तक उचित है कि शीतयुद्ध के दौरान, अर्न्तराष्ट्रीय गठबंधनों का निर्धारण महाशक्तियों की जरूरतों और छोटे देशों की लाभ-हानि की गणना से होता था? व्याख्या कीजिए।
    अथवा

    सोवियत संघ में सोवियत व्यवस्था की किन्ही तीन सकारात्मक तथा तीन नकारात्मक विशेषताओं को उजागर कीजिए।

X