CBSE Class 12 Sociology Hindi 02

CBSE Class 12 समाजशास्त्र
Sample Paper 02

समय : 3 घंटे
M.M. : 80

प्रश्न-पत्र के चार खण्ड हैं।
प्रश्नों की कुल संख्या 38 है।
सभी प्रश्न अनिवार्य हैं।
प्रश्न संख्या 1-20 तक वस्तुनिष्ठ प्रश्न है प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का है।
प्रश्न संख्या 21-29 तक, लघुत्तरात्मक प्रश्न है। प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का है। प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 30 शब्दों से अधिक नहीं होना चाहिए।
प्रश्न संख्या 30-35 तक दीर्घ उत्तर वाले प्रश्न हैं। प्रत्येक प्रश्न 4 अंक का है। प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 80 शब्दों से अधिक नहीं होना चाहिये।
प्रश्न संख्या 36-38 तक अति दीर्घ उत्तर वाले प्रश्न हैं। प्रत्येक प्रश्न 6 अंक का है। प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 200 शब्दों से अधिक नहीं होना चाहिए।
प्रश्न संख्या 38 का उत्तर दिये गये अनुच्छेद के आधार पर देना है।
Section ‘A’

1882 में ________ ने स्त्री पुरुष तुलना नामक पुस्तक लिखी।
जनजातीय समाजों का वर्गीकरण ________ विशेषक व ________ विशेषक के आधार पर किया गया है।
गांधी जी ने अस्पृश्य लोगों के लिए ________ शब्द का प्रयोग किया।
क्षेत्रवाद ________ तथा ________ पर आधारित है।
________ वैज्ञानिक ने औद्योगिक इंजीनियरिंग या टेलरिज्म नामक व्यवस्था का आविष्कार किया।
किसानों की उपज का सरकार उचित मूल्य सुनिश्चित करती है जिसे ________ कहते हैं।
संस्कृतिकरण की अवधारणा दी गई-
मैक्स वेबर
कार्ल मार्क्स
श्री निवास
ए. आ. देसाई
हुण्डी निम्नलिखित में से क्या है-
व्यापार पत्र
कर्ज पत्र
बैंक पत्र
उपरोक्त सभी
सामाजिक व शैक्षिक रूप से पिछड़ी जातियों को कहा जाता है-
अनुसूचित जनजाति
अनुसूचित जाति
अन्य पिछड़ा वर्ग
दलित
अल्पसंख्यकों से संबंधित अनुच्छेद है-
33 एवं 34
29 एवं 30
27 एवं 28
31 एवं 32
खासी जनजाति को अपनी पारंपरिक परिषद होती है जिसे कहते हैं-
दरबार कुर
पंचायत समिति
जिला परिषद
ग्राम पंचायत
पंचायती राज व्यवस्था के स्तर हैं-
पाँच
दो
चार
तीन
सही कथन लिखें-

जब बाजार में हर वस्तु, सेवाएँ, मानव अंग, आचार व्यवहार आदि वस्तु के रूप में बेची या खरीदी जाने लगे तो उसे प्रतिष्ठा का प्रतीक कहते हैं।
जब युवा वर्ग (15-59 आयु वर्ग) की जनसंख्या पराश्रित वर्ग (0-14 आयु वर्ग, 60 से ऊपर वृद्ध) से कम होती है तो उसे जनसांख्यिकीय लाभांश कहते हैं।
आधुनिक नगर जैसे बंबई, कलकत्ता, मद्रास जो उपनिवेशवादी शासन में प्रचालित हुए कमजोर होते गये।
पश्चिमी देशों की संस्कृति को अपनाना आधुनिकीकरण कहलाता है।
पंचायती राज व्यवस्था में खण्ड स्तर पर ग्राम पंचायत काम करती है।
एक देश की अर्थव्यवस्था को पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था से जोड़ना उदारीकरण कहलाता है।
ब्रह्म समाज की स्थापना ज्योतिबा फुले ने की थी।
समाज का उच्चता और निम्नता के आधार पर कई समूहों में बँटा होना समाजीकरण कहलाता है।
Section ‘B’

जनसांख्यिकीय लाभांश से क्या तात्पर्य है?
अदृश्य हाथ का क्या अभिप्राय है?
प्रबल जाति से आप क्या समझते हैं? किन्हीं दो प्रबल जातियों के नाम बताओ?
अथवा
पूर्वाग्रह क्या है? उदाहरण दो।
असक्षमता से आप क्या समझते हैं?
विनिवेश किसे कहते हैं?
अथवा
इंफोटेनमेंट शब्द का क्या अर्थ है?
बॉम्बे कपड़ा मिल मजदूरों की माँगे क्या थीं?
पंचायतों के आय के मुख्य स्त्रोत क्या हैं?
भारतीय संदर्भ में सांप्रदायिकता का आशय स्पष्ट कीजिए।
अथवा
जनजातीय पहचान से आप क्या समझते हैं?
राष्ट्रीय टेलीविजन कंपनियों ने किस प्रकार अपने आपको भारतीय दर्शकों के अनुरूप ढाल लिया है?
Section ‘C’

हित समूह प्रकार्यशील लोकतंत्र के अभिन्न अंग हैं चर्चा कीजिए।
हरिक क्रान्ति के परिणाम क्या हुए व्याख्या करो?
अथवा
स्वतन्त्रता के पश्चात भारतीय कृषि भूमि सुधारों के प्रभावों को स्पष्ट कीजिए।
राज्य अक्सर सांस्कृतिक विविधता के बारे में शंकालु क्यों होते हैं?
उदारीकरण ने रोजगारों के प्रतिमानों को किस प्रकार प्रभावित किया है?
अथवा
संगठित और असंगठित क्षेत्र में अंतर बताइये।
भारत में परिवार नियोजन कार्यक्रम इतना सफल क्यों नहीं हो पाया? कारण बताओ।
सतीश सबरवाल द्वारा उल्लेखित औपनिवेशिक भारत में परिवर्तन के तीन पक्षों की विस्तार से व्याख्या कीजिए।
वे कौन से मुद्दे थे जिनके विरूद्ध झारखंड में आंदोलनकारी नेताओं ने प्रदर्शन किये थे?
संस्कृतिकरण को परिभाषित करो। संस्कृतिकरण की आलोचना विभिन्न स्तरों पर किस प्रकार की गई है?
अथवा
भूमण्डलीकरण के विभिन्न आयामों की व्याख्या करें।
नीचे दिए गए अनुच्छेद को पढ़िए और निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
औपनिवेशिक दौर में एक विशिष्ट भारतीय चेतना ने जन्म लिया। औपनिवेशिक शासन में पहली बार भारत को एकीकृत किया एवं पूंजीवादी आर्थिक परिवर्तन एवं आधुनिकीकरण की ताकतवर प्रक्रियाओं से भारत का परिचय कराया। एक तरह से जो परिवर्तन लाये गये उन्हें पलटा नहीं जा सकता था। समाज वैसा कभी नहीं हो सकता जैसा पहले था। औपनिवेशिक शासन के अंतर्गत भारत को आर्थिक राजनीतिक एवं प्रशासनिक एकीकरण की उपलब्धि भारी कीमत चुका कर प्राप्त हुई। औपनिवेशिक शोषण एवं प्रभुत्व द्वारा दिये गये अनेक प्रकार के घावों के निशान भारतीय समाज पर आज भी मौजूद है। परन्तु उस युग का एक विरोधाभासी सच यह भी है कि उपनिवेशवाद ने ही अपने शत्रु राष्ट्रवाद को जन्म दिया।
उपनिवेशवाद को परिभाषित करें।
भारत की आर्थिक, राजनीतिक एवं प्रशासनिक एकीकरण की उपलब्धि भारी कीमत चुकाकर प्राप्त हुई है। कैसे?

X